......our answer to all your banking needs


Follow AllBankingSolutions


    Follow allbanking on Twitter

Challenges for Senior Bankers  To  Make Frustrated  Young Bankers As Part of the Bigger Bank Family -

(An Open Letter from a Young Officer Who Left Bank As Seniors Failed to Give Necessary Helping Hand)



Rajesh Goyal 

Ads by Google


Comments by Rajesh Goyal :  While surfing the net, I found the following letter on FaceBook.  This is letter written by a Directly Recruited Officer in BoB who faced hostile atmosphere in the bank and was left with no option but to resign.   He wrote this letter on the day he resigned but seems to have sent by email much later to CMD and some other officials of the bank.  The letter was available on net only in Hindi, but for the benefit of large majority of readers who do not understand Hindi, I have translated the same in English.   The translation is not by any professional translator and thus can not considered  to be word by word translation.   However, I have tried my best that it should convey the essence of the content in simple and straight forward language that is understand by  majority of our readers. 

First of all let me tell why I thought of sharing the same with our readers.  After reading the letter, I felt that this gives us a true feelings of a young banker who joins with lot of aspiration but gets a hostile atmosphere in the bank specially from his seniors.  In view of the high working pressure and fear of charge sheets, the newly recruited young bankers tend to develop their own barriers which results into further distrust.   Frankly speaking, I too faced similar situations during my first posting at Jaipur  in 1980s.     That was my crisis period of stabilizing in the new system and faced few months of high level stress.     I was very near to situation which Mr Ram has expressed.    However, I survived.   May be  things were not that bad in those days.   With now over 30 years of experience, I can easily find some illogical parts in the letter (as most of other senior bankers will find)  but from the point of a new recruit,  his thinking appears to be absolutely correct.  

The senior bankers need to be sensitized about the fears and the psychology of the new recruits.  The young bankers needs to be taught slowly the art of adopting to new environment,  rather than adopting the methods of teaching them through punishments even for small aberrations  like taking a day's leave without information etc.   Certainly they are adult but they need time to adjust to new hostile work environment after a cool college life.  They need to be give time to overcome the fears generated by lose talks in the branches / administrative offices.   Young bankers too need to learn the art of  adjusting to the new environment and keep the atmosphere easy and lively with smiles on their young faces. 

The  contents of the letter we are quoting here may be specific to one bank, but this type of behaviour and episodes are available across the industry and across India.  Therefore, it is not a poor reflection of BoB but is  a reflection of the banking industry as a whole.  I will say it is a reflection of the tussle now going on between senior bankers and newly recruited bankers.  Such a tussle is not a new phenomenon. I faced the same 35 years back, but it has become more serious as there are few middle aged officers.  Earlier this middle age group  used to be a cushion or a bridge between two extreme generations.   HR departments of banks need to know this and adopt appropriate policies to bridge this gap.

Now We Give the Conents of the Letter:-

Ram Chandra Gurjar <>Tue, Jun 17, 2014 at 12:27 PM


आदरणीय CMD महोदय, (Respected CMD),


A. .सबसे पहले मैं अपना औपचारिक परिचय देना चाहूंगा . मेरा नाम राम चन्द्र गुर्जर है . मैं बैंक ऑफ़ बरोदा परिवार में १५ जुलाई 2013 को DRO के रूप में शामिल हुआ . क्षमा चाहूंगा कि इस पत्र में इसके अलावा और कुछ भी औपचारिकता नहीं होगी क्योंकि मैं समझता हूँ कि अभिभावक और संतान में किसी तरह की कोई औपचारिकता नहीं होती.साथ ही मैं क्षमा चाहूंगा सीधे आपको पत्र लिखने का दुस्साहस कर रहा हूँ. क्योंकि पदसोपानिक स्तर में सबसे छोटा अधिकारी सबसे बड़े अधिकारी को पत्र लिखे ये "सिस्टम " या "प्रोटोकॉल " विरुद्ध है , लेकिन मेरा मानना है कि जब मन कुंठित हो ,संकट गंभीर हो तो हम सीधे मंदिर में भगवान से प्रार्थना करते हैं पुजारी से नहीं . इसलिए मैंने ये कोशिश कि हैं . आशा है कि आप भी इसे इसी भावना के साथ स्वीकार करेंगे . बैंक ऑफ़ बड़ौदा जैसी विश्वस्तरीय बैंक में इसके भविष्य निर्माता के रूप में जुड़ने वाले DRO के साथ किस तरह का व्यवहार होता है ,ये मैं आपके साथ बाँटना चाहूंगा .


A. [Let me first of all give my introduction.  My name is Ram Chandra Gurjar.  I joined BoB family on 15th July, 2013 as DRO (Directly Recruited Officer).  I would like to be pardoned for writing this letter to you directly.  I am taking this liberty though usually it is against the "System" or "Protocol to write directly to top official in an organization.   However, I feel when your heart is full of sorrow and issue is grave, we usually go directly to God in the temple and not through priests.   I hope you will accept this letter in the same context.  I want to share with you as to how a young DRO was treated in BOB, an internationally reputed  bank, ]


B. : IBPS की कठिन परीक्षा एवम गला काट प्रतिस्पर्धा के बाद 15 जुलाई को मैंने बैंक ऑफ़ बड़ौदा इस उम्मीद के साथ ज्वाइन की थी कि बैंकिंग सेक्टर में करियर विकास कि असीम सम्भावनाओ में मैं अपना बेहतर भविष्य बना पाउँगा . ट्रेनिंग के दौर में जब बैंक ऑफ़ बड़ौदा को जानने का मौका मिला तो सैद्धांतिक स्वरुप बेहद आकर्षक लगा. लगा मानो इसी आर्गेनाईजेशन की मुझे जरुरत थी . लेकिन जैसे जैसे आगे बढ़ा यथार्थ के धरातल के कटु अनुभवों का सामना होना शुरू हुआ . लेकिन जीवन की यही सच्चाई है ,ट्रेनिंग के कुछ कटु अनुभवों को भूलकर मैं दुगुने उत्साह के साथ आगे बढ़ा . मुझे नसीराबाद ब्रांच अजमेर रीजन में पोस्टिंग मिली .लेकिन वही से मेरी लाइफ में बुरे दिन शुरू हो गए . अपनी ही एक सीनियर लेडी अफसर की कार्यशैली और व्यवहार ने मुझे इस हद तक परेशान किया कि मुझे मजबूरन बैंक छोड़ने का फैसला लेना पड़ा .और कृपया इसे एक व्यक्तिगत उदहारण ना समझे.सिर्फ एक घटना के आधार पर मैं बैंक ऑफ़ बड़ौदा जैसी संस्थान पर ऊँगली नहीं उठा सकता . इस पत्र को लिखने का साहस ही इसलिए जुटा पाया क्यूंकि मेरे साथी DROs का भी कुछ ऐसा ही अनुभव रहा .इसलिए पिछले 6 महीनो के अनुभव के आधार पर मैं अपने बाकि DRO साथियो की तरफ से कुछ कॉमन महत्वपूर्ण बिन्दुओ को आपके साथ बाँटना चाहूंगा.

Ads by Google


B [I joined BOB on 15th July (2013) after passing through cut-throat competition in  IBPS exam,  with the hope that I will be able to make a great career in view of the unlimited opportunities available in the banking sector.   During training at BOB, it was very attractive and I felt that this is the organisation which I was looking for.  However, as I progressed forward, I was encountered with the realities and the truth of life.   However, leaving behind the bad experiences of  training period, I decided to go ahead with double zeal.   I was posted at Nasirabad branch of Ajmer Region  My bad days seems to have started from this time.   The working style and behavior of a senior lady officer led me such a frustration  that I decided to quite the job.   I would like to request  that this may not be treated as an isolated personal example, as I would not have dared to point finger on such a reputed organisation on the basis of one example.   I have gathered courage to take up this issue as my other DRO colleagues also had similar experiences.   I am writing this based on my experience and feed back given by other DRO colleagues.  I would like to share with you some of the common important points in this regard:-


C. 1.हम DROs से जबरदस्ती लोन डाक्यूमेंट्स सहित बैंक में बहुत से कागजो पर हस्ताक्षर करवा लिए जाते हैं जिनमे से अधिकांश का हमे ज्ञान तक नहीं होता .यहाँ तक कि बिना इंस्पेक्शन किये हुए भी इंस्पेक्शन रिपोर्ट्स पर हस्ताक्षर करवा लिए जाते हैं .सीनियर सही ही करवा रहे होंगे ये मानकर हम हस्ताक्षर कर भी देते हैं . लेकिन अब जब धीरे धीरे बाते समझ में आई तो पता चलता हैं कि सीनियर लोग अपनी नौकरी बचाने के लिए हमे ढाल के रूप में काम में लेते हैं .


C. 1 We, DROs, are required to sign number of loan documents which we hardly understand and about which we have hardly any knowledge.  Even inspection reports are got signed sometimes even without the actual inspection.  We sign thinking that they are our seniors and thus must be getting the same signed correctly.  However, slowly we know that seniors do so to save their own job and they use us as shield.


D. 2.बैंक के सैद्धांतिक और व्यवहारिक आदर्शो में कोई तालमेल नहीं . HR पॉलिसीस के मामले में तो मैं इसे बिलकुल सही पाता हूँ . इसके उदहारण के तौर पर मैं आपको अपनी स्थिति से अवगत करवाता हूँ .


D. Bank do not have follow as they preach.   In the matter of HR policies I have found this to be absolutely correct.  For example, I would like to make you aware of ground realities I faced.


E. (i)मैं राजस्थान के चुरू जिले का निवासी हूँ . चुरू जिला बैंक ऑफ़ बड़ौदा के जोधपुर रीजन में आता हैं .मुझे मेरी पहली पोस्टिंग मेरे घर से करीब 350 किलोमीटर दूर दी गयी . इसमें बैंक का तर्क शामिल होता हैं कि अभी आप अविवाहित होते हैं इसलिए कोई समस्या नहीं हैं दूर पोस्टिंग में . मैं आपसे पूछना चाहूंगा क्या सिर्फ विवाहित व्यक्ति का ही परिवार होता हैं ? क्या अविवाहित व्यक्ति का जुड़ाव नहीं होता अपने माता -पिता से ? बैंक की 6 दिन 10घंटे की बैंकिंग के बाद क्या अविवाहित व्यक्ति को भावनात्मक आराम की जरुरत नहीं होती ? मेरे जैसे कितने ही नए DROs 350 किलोमीटर से कहीं ज्यादा दूर पोस्टेड हैं अपने अपने घरो से .मैं नहीं कहता की हमे घर में पोस्टिंग चाहिए ,लेकिन कम से कम ऐसी जगह तो पोस्टिंग दीजिये ताकि वीकेंड पर तो घर जा सके . घर के पास रहेंगे तो बैंक के लिए बिज़नेस लाना भी आसान होगा .एक नए अनजान शहर में हम बैंक के लिए कितना बिज़नेस ला पाएंगे ?? रही बात अविवाहित व्यक्ति की तो विवाहित व्यक्ति के पास तो अपनी खुद की फैमिली हो सकती हैं लेकिन हमारे पास सिर्फ हमारे माता -पिता हैं .बर्थडे पर मेरे mata-पिता इतनी दूर से आये मुझसे मिलने ,बैंक से एक छुट्टी मांगी उस पर भी सुनने को मिला कि "Leave is not your right".तब लगा कि हम ही बेवकूफ हैं जो बैंक को दिन रात अपनी सेवा देने में लगे हैं .जब बैंक को हमारी भावनाओ का ख्याल नहीं तो फिर हम क्यू कहाजाता हैं बैंक के लिए वफादार बनने के लिए ??


E. (i) I am a resident of Churu district in Rajasthan.  Charu district falls within Jodhpur region.   I got my first posting about 350 kms away.  The bank has argued that you being unmarried should not have any problem in far away postings.   I would like to ask whether unmarried person does not have a family.  Does unmarried person is not attached with his parents?  After working on 6 days and for 10 hours daily, does unmarried not need emotional rest? There are large number of other DROs who are posted even beyond 350 kms from their homes.    I do not expect that everybody will be posted at his home town but I expect that posting should be such that a person can visit his home at least on week ends.  If one is posted near his home, we can bring more business easily.  In a new town, how much we can bring new business?  As far as married person is considered, he has his own family, but we have our parents only.   On my birthday, my parents can not come to meet me and if I ask for leave, we are told "Leave is not your right".  Then we feel that we are idiots as we work day and night for the bank.  When bank can not understand our emotions, then why we are expected to be loyal to bank?


F. (ii)बैंक में आने का समय तो निश्चित है लेकिन जाने का समय का कोई अता-पता नहीं . मानता हूँ कि बैंक में काम बहुत ज्यादा है ,लेकिन उससे कहीं ज्यादा अक्षमता/अकर्मण्यता और सीनियर लोगों की देर तक बैठने की आदत जिम्मेदार है .पिछले 21 दिनों से मैं अपनी ब्रांच के ऑपरेशन हेड का काम संभाल रहा हूँ और जो ब्रांच कभी रात 8 बजे से पहले बंद नहीं होती थी वो 5:30 से 6:00 बजे बंद हो जाती है . क्या बैंक की टाइमिंग को लेकर कोई नीतिगत निर्णय नहीं लिया जा सकता ? यहाँ तक कि रविवार को भी काम करने के लिए बुला लिया जाता है और क्यूंकि हम DROs हैं हमारी तो जैसे नैतिक जिम्मेदारी बन जाती है आने की. रात 8 बजे तक काम करने के बाद घर पहुँच कर सोना और सुबह फिर काम पर लग जाना ,ये मुझे इंसान की नहीं मशीन की याद दिलाता है .


F. (ii) There is a fixed time for reporting in the bank but there is not fixed time for leaving the bank.  I agree there is lot of work in the bank, but late sitting is mainly due to inefficiency and the habit of seniors to sit late.   For last 21 days I am handling work of branch operation head.   Branch which used to close only around 8.00 PM, now closes between 5.30 and 6.00 PM   Can bank not take a call on fixing the working hours ? We are even called to work on Sundays as we are DROs and thus it becomes our moral duty to do so.  After working upto 8.00 PM, it is merely a formality to go home and sleep and then come back for work next morning  It is reminds me of machines.


G. (iii) रीजनल ऑफिसो में जिन लोगों को नियुक्त किया जाता है उससे तो हम DROs बहुत ही निराश और कुंठित हैं. अपरिपक्व या अयोग्य लोगों की नियुक्ति की वजह से पूरे रीजन को परेशानी का सामना करना पड़ता है .अजमेर रीजनल ऑफिस का मेरा और मेरे साथियो का अनुभव बहुत ही ख़राब रहा है . क्या रीजनल ऑफिसो आदेश देने के लिए ही बने हैं ?? क्या One-Way conversation ही चलता है ??


G. (iii) The type of people who are posted in regional offices leads to frustration among DROs.  It is only on eaccount of inefficient and incompetent people that the whole region has to suffer.   My experience and that of my colleagues has been very bad ?  Are Regional Offices are merely meant to give orders only?  Does  only "One Way Conversation" works?


H. 3. अब मैं आपको मेरी और मेरे साथी DRO की 2 कहानियाँ सुनाता हूँ .मेरी ब्रांच में एक लेडी अफसर ने अपनेव्यवहार ने इस हद तक माहौल ख़राब किया कि बैंक और ब्रांच कि छवि ख़राब होने के साथ साथ ब्रांच में काम करने वाले लोगों का मनोबल गिर गया .मुझसे कहीं भी हस्ताक्षर करवाना , risky cheques जबरदस्ती मुझसे पास करवाना ,ब्रांच हेड का दिया हुआ काम अगर कर रहा होता तो मेरा नाम चिल्ला चिल्ला कर कस्टमर्स के सामने मुझे शर्मिंदा करना उनकी आदत सी बन गयी थी . इस हद तक मेरा नाम पुकारा गया कि मुझे अपने नाम से नफरत होने लगी थी . तेज गति और विभिन्न तरह के काम करने की मेरी क्षमता मेरे लिए अभिशाप बन गयी थी और उनके लिए अपनी कामचोरी को बढ़ावा देने का जरिया . इसकी शिकायत मैंने नवंबर में रीजनल ऑफिस में हुए DRO कॉन्क्लेव में भी की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ .यहाँ तक की मेरी काउंसलिंग करने की कोशिश भी नहीं की गयी .इसके बाद मेरा दिनों दिन मानसिक शोषण होता गया .और मैं हर दिन घुट घुट के जीता रहा . जनवरी मेंअपनी अंतिम ट्रेनिंग में जयपुर ट्रेनिंग सेंटर में मुझे कहना पड़ा की अगर वो लेडी मेरी ब्रांच में रहेगी तो मुझे मजबूरन बैंक छोड़ना पड़ेगा .तब मेरे रीजनल हेड और मेरे जोनल हेड तक बात पहुंचाई गयी .मुझे मेरे रीजनल हेड ने कुछ हद तक कन्विंस कर लिया . मुझे लगा कि समस्या अब तो समाप्त हो ही जाएगी .जब ब्रांच में आया तो उसका असर तो नजर आया लेकिन इस बार तरीका बदल चूका था मानसिक प्रताड़ना का .आख़िरकार मुझे बैंक छोड़ने का फैसला लेना ही पड़ा . 31 जनवरी को मैंने बैंक से इस्तीफा दे दिया .


H. 3 Now let me tell you two episodes of myself and my colleague DRO.   In my branch, the bad behavior of  a lady officer spoiled the working conditions in the branch to the extent that it not only created bad image of the branch but also led to low morale of people working in the branch, viz to get my signatures on any document, to get passed the risky cheques from me, if I was completing  the work allocated by BM, then she used to call my name in high pitch in front of customers.   My name was called so many times in a day  that I started feeling hatred towards my own name.  My qualities of working at a high speed and to handle different type of works became my biggest enemy.  I complained about all this in November to Regional Office in a DRO Conclave, but it did not yield any results.  I was mentally tortured for number of days and I lived on edge for many days.  In January, when I joined for my last training at Jaipur training Centre, I was left with no option but to tell that I have to leave the bank if that lady continues to be in the branch.  This was conveyed to my Regional head and Zonal head.  I was counseled   and I thought now the problem will be over.   However, when I reached branch, I felt the change,  but new methods were evolved to emotionally torture me.  Finally I decided to Quit and gave my resignation on 31st January.


I. दूसरी कहानी मेरे साथ ही ज्वाइन किये हुए DRO की है . उसने अजमेर रीजन की सांगानेर ब्रांच ज्वाइन की.उसके ब्रांच हेड उससे रोज रात 9-10 बजे तक काम करवाते और यहाँ तक कि संडे को भी ऑफिस आना पड़ता. यहाँ तक कोई परेशानी नहीं थी ,लेकिन उससे फर्जी इंस्पेक्शन रिपोर्ट साइन करवाना ,लोन्स डाक्यूमेंट्स सहित बहुत से सवेंदनशील डाक्यूमेंट्स पर साइन करवा लिए जाते और वो भी जबरदस्ती .उसने इसकी शिकायत उसी DRO कॉन्क्लेव में की . नतीजा ये हुआ कि उसके ब्रांच हेड नाराज हो गए .उस DRO ने कुछ दिन बाद एक छुट्टी के लिए आवेदन किया और दुर्भावना वश ब्रांच हेड ने छुट्टी कैंसिल कर दी .तबियत ख़राब होने की वजह से DROअगले दिन ऑफिस नहीं गया और इसकी शिकायत ब्रांच हेड ने रीजनल ऑफिस में कर दी . और अब ताज्जुब करने वाली बात ये है की जो रीजनल ऑफिस हमारे द्वारा की गयी शिकायतों को सुनकर भी सोया रहा उसने इस बार कोई गलती नहीं की DRO को तुरंत कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया .और उसके कुछ दिनों बाद उसी DRO का ट्रांसफर अनुशासनहीनता का कारण देते हुए राजस्थान के दक्षिणी छोर के रीजन में कर दिया गया .अपने साथ किये गए पक्षपाती व्यवहार से hatas उस DRO ने बैंक से इस्तीफा दे दिया .


I. Let me now tell second episode of my colleague who joined with me as DRO.   He has joined  Sanganer Branch of Ajmer region.  Branch Manage used to ask him to work upto 9 - 10 PM and he has to go to branch even on Sundays.  Update this, there was no problem.  But  he was also forced to sign on forged inspection reports, signs on loan documents  and other sensitive documents.   He also complained about these at DRO conclave.  The result was that his branch head got annoyed and when he gave application for leave, the same was cancelled. He could not attend the office due to illness and Branch head reported the matter to regional head.  It is surprising that the regional office, which has turned blind eye to our complaints, swung into action this time and issued a Show Cause notice to the DRO and soon was transferred to southern most part of Rajasthan.  Wilth such one sided treatment, this DRO resigned from the bank.


J. इन 2 कहानियों में रोचक बात ये रही कि एक जगह जहाँ सिर्फ ट्रांसफर कर देने से बैंक अपना एम्प्लोयी बचा सकता था ,वहां से कोई ट्रांसफर नहीं हुआ और दूसरी जगह बेवजह किये गए ट्रांसफर ने बैंक का एक एम्प्लोयी खो दिया .समझ में नहीं आता किस तरह के मापदंडो को अपना रहा है बैंक ?? किसको बचाना है किसको हटाना है ?? कुछ समझमें नहीं आता.मैं तो अपने आप को इन घटनाओ के बाद बैंक में सुरक्षित नहीं पाता . वही महिला अधिकारी ब्रांच से 300रुपये चुराती हुई cctv कैमरा में पकड़ी गयी लेकिन ब्रांच मैनेजर ने कोई करवाई तक नहीं की. कैसा माहौल बना रखा है बैंकमें.सर कृपया कुछ कीजिये.


J. The above two episodes indicates that in one case, bank could have saved an officer from resigning had he been transferred, in the other case another officer could have been saved from resigning  if had not been transferred  Thus bank does not understand who is to be saved and who is to be transferred   I did not feel safe under such episodes.  The same lady officer when seen removing Rs 300 on cctv was  let off by BM.  Please do something?.


K. इन 2 कहानियों के अलावा भी मेरे पास और कुछ कहानियाँ हैं लेकिन मैं अब उनपर न जाकर सिर्फ इतना जाननाचाहूंगा कि आंकड़ों और टारगेट के खेल में में इंसानियत को भुला चुके हैं . बैंक का हमे भविष्य कहा जाता है लेकिन बैंक ही अपने भविष्य को बचने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखता,ताज्जुब होता है .


K. I have few more episodes but I would like to quote these here but would like to know whether we have forgotten the human touch merely to achieve targets.  We are considered as the future of the bank, but bank does not appear to be interested in saving its future.  I am surprised.


L. एक अभिभावक होने के नाते मैंने आपके सामने मेरी भावनाओ को एक अबोध बालक की तरह कह दी . अब आप एक पिता के समान होने के नाते क्या निर्णय लेते हैं ये मैं आप पर छोड़ता हूँ . पत्र लिखने से पहले ही लोग कह चुके हैं कि बैंक 100 साल से ज्यादा समय से चल रहा है कोई फर्क नहीं पड़ने वाला . असर नहीं होगा ये सोचकर मैं सच कहने से अपने आप को रोक तो नहीं सका हाँ इसे भेजने में समय जरूर ले लिया. बैंक में मेरे आखिरी दिन ये पत्र लिखा लेकिन भेजआज रहा हूँ, इसके पीछे कारण वही 100 साल और असर न होने का तर्क था . मेरा ये पत्र बदलाव का एक जरिया बनेगा या फिर deleted items का एक हिस्सा .........ये वक्त बताएगा.


L. I have put my problems before you like a child and considering you to be my guardian.    I leave it to you what decision you take in this case. Before I have penned this letter, people have told me that bank is in existence for over 100 years and this complaint is not going to make any difference even now.  I admit that I have taken a longer time for sending this letter.  I have penned  this letter on the day I have resigned but sending the same now.   The reason for this delay is the plea that people told me that it will have no impact.   However, I could not stop myself on the plea that it will not have any impact.  It is only time that will tell, whether this letter could make some change or it will form a part of the deleted items.


M. इतने धैर्य के साथ पत्र पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद .आपने अपना कीमती समय दिया उसके लिए शुक्रिया.


M.  I think you for reading this letter so patiently.  I think you for sparing your valuable time.



(truly yours)

राम चन्द्र गुर्जर

(Ram Chander Gurjar)

भूतपूर्व DRO (Ex-DRO)

EC No.102492



You can give your feedback / comments about this Article.   Please give only relevant comments as irrelevant comments are waste of time for yourself and our other readers.



blog comments powered by Disqus